डॉ बासित अली ने कायम की मिसाल, बचाई ज़ख़्मी दिल वाले युवक की जान


 


बरेली/फरीदपुर:- अक्सर देखा जाता है की सरकारी अस्पताल के डॉक्टरों पर लापरवाही का आरोप लगता है लेकिन बरेली के फरीदपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर तैनात डॉक्टर बासित अली मरीज के लिए भगवान साबित हुए , जिंदगी और मौत से लड़ रहा युवक डायल 100 को ईख के खेत के पास पड़ा हुआ मिला ,पुलिस युवक को लेकर फरीदपुर सीएचसी लेकर आयी युवक का हार्ट ऊपर दिखाई देने लगा समय कम था डॉ बासित अली ने सूझबूझ का परिचय देते हुए अपनी पूरी टीम के साथ मरीज की जिंदगी को बचाने मे लग गए , मरीज को बचाना चुनौती साबित हो रहा था क्योंकि मरीज का एक तरफ का सीना पूरा फटा हुआ था और वो कुछ बोलने की हालत मे भी नही था , फरीदपुर सीएचसी से जिला अस्पताल बरेली पहुंचने में 35 मिनट लगते हैं लेकिन 35 मिनट में घायल जिंदगी को अलविदा कह सकता था लेकिन किस तरह से एक डॉक्टर अपनी पूरी टीम के साथ मरीज की जिंदगी बचाने मे लग गए , यह डॉक्टर कोई और नहीं , बल्कि डॉ बासित अली हैं जो इससे पहले भी बरेली आते समय रोड पर पड़े एक घायल को गाड़ी रोककर फर्स्ट एड देकर सुर्खियों मे आए थे।डॉ बासित अली का कहना है कि कल रात 10 बजे डायल 100 युवक को लेकर सीएचसी आयी थी ,युवक की हालत काफी नाज़ुक थी उसका हार्ट बाहर आ गया था और एक तरफ का सीने का मास पूरा उड़ गया था हमने सबसे पहले उसके हार्ट को सही जगह पर किया फिर उसके बाद उसको तुरंत फर्स्ट एड दिया करीब डेढ घंटे तक उनको उसका ट्रीटमेन्ट करना पड़ा , उन्होंने बताया कि अगर हम उसको तुरंत जिला अस्पताल रेफर करते तो उसकी जान जा सकती थी क्योंकि फरीदपुर से जिला अस्पताल पहुंचने मे 35 मिनट का टाइम लगता है इसी लिए उन्होंने उसका प्राथमिक उपचार सीएचसी पर किया , डॉ बासित अली ने बताया कि उनकी आज उस युवक से बात हुई है अब वो बोलने की स्थिति मे आ गया है।


रिपोर्टर:- स्नेह कुमार सिंह कुशवाहा