बेटी बनी कातिल, अपने ही बाप को मौत के घाट उतारा


 


पीलीभीत:- जिस बेटी को पाल पोसकर बढाकर किया उसी ने एक जमीन के टुकडे के लालच के चलते अपने बुजूर्ग पिता के सीने में गोली मारकर मौत के घाट उतार दिया. पुलिस ने आरोपी बेटी व मृतक के बडे दामाद को आलाए कत्ल के साथ गिरफतार कर लिया है.रिश्तों के कत्ल की यह वारदात पीलीभीत की पूरनरपुर कोतवाली क्षेत्र में घटी है. खून से लथपथ बीच सडक पर पडे इस बजुर्ग की हत्या का इल्जाम इसकी सगी छोटी बेटी व बडे दामाद पर है दरअसल कल गांव मोहम्मदपुर के रहने वाले 70 वर्षीये शकर लाल के उस समय गोली मारकर हत्या कर दी गयी जब वह साईकिल से पूरनपुर जा रहे थे अज्ञात हत्यारो ने भंगवंतापुर गाव की पुलिया के पास घटना को अन्जाम दिया और फरार हो गयी। पुलिस ने मात्र 24 घण्टे के अन्दर इस हत्या का खुलासा किया है जिसके बाद खून के रिश्ते तार तार हो गये


पुलिस की माने तो मृतक शकर लाल का कोई पुत्र नही है चार बेटिया है जिनकी शादी हो चुकी है मृतक के पास 6 एकड जमीन है मृतक का बडा दामाद ओमप्रकाश पुत्र की तरह जमीन की देखभाल करता था और शकरलाल को कही रात बिरात जाना होता था तो ओमप्रकाश को ही साथ ले जाते थे मृतक शकरलाल अपनी सबसे छोटी शादी शुदा बेटी नीलम को बहुत प्यार करते थे इसी के चलते ही मृतक ने अपनी थोडी जमीन नीलम के नाम में कर दी थी कुछ समय से मृतक अपने गांव में ही रहने वाले अपने भतीजो के पास जाने लगे थे जिसके बाद छोटी बेटी नीलम व बडे दामाद ओमप्रकाश को शक हो गया था कि मृतक के अवैध संबंध भतीजे की सास से हो गये है और मृतक अपनी बची जमीन कही भतीजो के नाम न कर दे। इसी के तहत मृतक की बडी बेटी सुनीता के पति ओमप्रकाश व छोटी बेटी नीलम ने शकरलाल को मारने का प्लान तैयार किया और कल जब मृतक साईकिल से पूरनपुर जा रहे थे तबहि नीलम व ओमप्रकाश ने रास्ते में रोककर सीने में गोली दाग दी जिससे शकर लाल की मौके पर ही मौत हो गयी।


आरोपियो ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है लेकिन बेटी रिश्ताे को बचाने कौशिस कर रही है कि उसके सामने ही वारदात घटी लेकिन उसने डर के चलते घटना छिपा ली अब आप खुद समझ सकते है कि किसी बेटी के सामने उसके पिता के गोली मार दी जाये तो वह कैसे खामोश रह सकती है फिलहाल पुलिस दोनो आरोपिये को जेल भेज रही है आधुनिकता के इस दौर में रिश्ताे के कोई मायने नही रह गये है और अपने ही अपनो का खून बहाने से पीछे नही हट रहे है जिसके चलते लोगो का अब रिश्ताे पर से भी भरोसा उठता जा रहा है।